top of page

अक्षय तृतीया एवं हिंदू संस्कृति में इसका महत्व


अक्षय तृतीया क्या है?

अक्षय तृतीया हिंदू धर्म में एक महत्वपूर्ण त्योहार है जो हिंदू कैलेंडर के अनुसार वैशाख माह की शुक्ल पक्ष की तीसरी तिथि को मनाया जाता है। इस त्योहार का महत्व बहुत उच्च होता है क्योंकि इस दिन कुछ काम शुरू करने से लोगों के लिए बहुत ही शुभ होता है।


क्यों विशेष है अक्षय तृतीया पर्व:

अक्षय का अर्थ है “जो कभी क्षय (खर्च) ना हो” अर्थात् अक्षय तृतीया कभी ना क्षय होने वाले पुण्य को देने वाली अतिशुभ तिथि है। हिंदू पंचांग के अनुसार वर्ष की 4 तिथियाँ बहुत ही पुण्य शालिनी होती हैं।जिनमें से 1 अक्षय तृतीया है।


ये अखंड सौभाग्य, पुण्य और वैभव देने वाली शुभ तिथि है इस दिन प्रकृति में बहुत कुछ विशेष है।

  1. अक्षय तृतीया के दिन ही भगवान बद्रीनाथ के कपाट श्रद्धालुओं के दर्शन के लिए खोले जाते हैं।

  2. अक्षय तृतीया को भगवान परशुराम के जयंती के उपलक्ष्य में भी मनाया जाता है।

  3. इस दिन माता गंगा का पृथ्वी पर पदार्पण हुआ था।

  4. महाभारत का लेखन भी इसी दिन प्रारंभ हुआ था।

  5. भगवान श्री कृष्ण ने द्रौपदी को अक्षय पात्र भी आज के ही दिन प्रदान किया था।

  6. भगवान श्री कृष्ण ने सुदामा जी को कुबेर का अक्षय भंडार भी दिया था।

अक्षय तृतीया को क्या करना चाहिए?

  1. अक्षय तृतीया को निवेश हेतु सफल तिथि माना गया है।

  2. आज के दिन स्वर्ण ख़रीदना, स्वर्ण के आभूषण बनबाना या ख़रीदना अथवा सोने - चाँदी के सिक्के ख़रीदना शुभ होता है।

  3. आज भूखंड लेना, मकान का कार्य प्रारंभ करवाना, नवीन रजिस्ट्री सहित नवीन घर में गृह प्रवेश को अति शुभ माना जाता है।

  4. वर्तन, वस्त्र, घरेलू उपयोगी उपकरण जैसे कार, AC, सहित अन्य यन्त्र ख़रीदना शुभ माना जाता है।

  5. कलयन्त्रों या व्यापार की मशीनें ख़रीदना, मीटिंग करना शुभ रहता है।

  6. स्टॉक या पूँजी निवेश हेतु इस दिन का विशेष महत्व है।

  7. सिद्धि प्रदायक अनुष्ठान और आयुर्वेदिक औषधियों का संग्रहण भी इस दिन शुभ रहता है।

  8. विविध प्रकार के धार्मिक कार्य, दान, स्नान का विशेष महत्व है।

  9. सबसे महत्वपूर्ण है की किसी प्रकार के पापकर्म से बचें।

इस त्योहार का महत्व हिंदू धर्म में बहुत ही उच्च माना जाता है। अक्षय तृतीया को संसार में लक्ष्मी पूजा के रूप में जाना जाता है। इस दिन धन की वर्षा होती है, और इसलिए लोग नए कामों या उत्पादों की शुरुआत करते हैं। इस त्योहार को धनतेरस के नाम(tarah) से भी जाना जाता है।


अक्षय तृतीया पर धन कैसे खर्च करें?

अक्षय तृतीया पर कुछ शुभ कार्यों पर खर्च करने से लोगों के लिए बहुत ही शुभ होता है। यहां नीचे कुछ ऐसे कार्य बताए गए हैं, जिन्हें अक्षय तृतीया पर करने से आप अपने जीवन में समृद्धि और खुशहाली का संकेत प्राप्त कर सकते हैं।

धन का दान: अक्षय तृतीया के दिन धन का दान देना बहुत ही शुभ माना जाता है। इस दिन आप गरीबों को भोजन और वस्त्र दान कर सकते हैं। आप भी कुछ धनराशि को किसी चैरिटेबल संस्था को या असहाय लोगों की मदद के लिए दान कर सकते हैं।


शुभ मुहूर्त में काम शुरू करना: अक्षय तृतीया के दिन शुभ मुहूर्त में कोई भी नया काम शुरू करना शुभ माना जाता है। इस दिन आप अपने व्यवसाय के लिए नई योजनाओं की शुरुआत कर सकते हैं या कुछ अन्य महत्वपूर्ण निर्णय ले सकते हैं।

पूजा-पाठ करना: अक्षय तृतीया के दिन पूजा-पाठ करना भी बहुत ही शुभ माना जाता है। इस दिन आप देवी-देवताओं की पूजा कर सकते हैं।

12 views0 comments

Comentarios


bottom of page